Ads 468x60px

मंगलवार, 22 नवंबर 2011

पाठ-1 राजस्थानी भाषा रो जलम

                            पाठ-1 राजस्थानी भाषा रो जलम
                                 [] ओम पुरोहित 'कागद'
 राजस्थानी भाषा भोत जूनी भाषा । राजस्थानी भाषा रै जलम रो ठीक-ठीक ग्यान किणी भाषा विग्यानी नै नीं ! श्री राहुल सांकृत्यायन इण रो जलम सातवैं सईकै [सम्वत- 690] रै ऐड़गेड़ बतावै आपरी बात री साख में बै जूना कवि सरहद पाद री सम्वत- 690 लिख्योडी़ आ रचना राखै-

जहि मन पवन संचरई , रवि ससि नाहिं पावेस ।
तहि वह चित विसाय , करु सरह...ै- कहिय उवेस ॥

डा सुनीति कुमार चटर्जी राजस्थानी भाषा रो जलम नवमै सईकै सूं मानै ! आपरी बात री साख में बै  सम्वत-830 में कव लुहिया री लिख्योडी़ ऐ ओळ्यां राखै-

कागा तरुवर पंच विडाल , चंचल चीए पाइये काल ।
दिअ करिअ महासुद परमाण,लूई-भनई गुरू पच्छि अजाण ।

इटली रा विद्वान डा. एल.पी टैसीटोरी अर अंग्रेज विद्वान आचार्य ग्रियर्सन रो मानणोंहै कै राजस्थानी भाषा रो जलम 16  वैं सईकै में होयो । आं रो मानणों है कै सोळवैं सईकै ताईं राजस्थानी अर गुजराती एक ई ही अनै अठै सूं गुजराती राजस्थानी सूं अळगी फ़ंटणीं सरु होयगी ही  ।
विद्वानां रो मानणों है कै सिंध-गुजरात-अर मारवाड़ रै भेळप में कदै ई एक निरवाळो देस हो जिण रो नांव गुर्जरत्रा  [ गुर्जर-गोत्रा ]  यानी गुर्जर लोकां रो देस  । विद्वानां राजनीति री दीठ सूं भी राजस्थान नै पंजाब,गुजरात अर सिंध सूं घणों नेडो़ मानै ।

अंग्रेज विद्वान आचार्य ग्रियर्सन रो दियोडो़ भाषा वंश वृक्ष
=============================

वैदिक
   ।
A-प्राकृत      B-पारसी-      C-जिन्द     D-जर्मनी
   ।
A-मागधी     B-सोरसैनी    C-अपभ्रंश    D-बंगाली     E-पैशाची   F-पाली
                                                 ।
                                          A-डींगल [ पुरानी राजस्थानी ]              B-गुजराती   C-मराठी
                                                 ।
                                        आज री राजस्थानी 

राजस्थानी भाषा रो कडू़म्बो
==============
अंग्रेज विद्वान आचार्य ग्रियर्सन राजस्थानी भाषा रै कडू़म्बो री बोल्यां रो बंटवारो ईण भांत करियो-
1-आथूणी राजस्थानी= मारवाडी़,थळी,बीकानेरी,बागडी़,शेखावाटी ,मेवाडी,वागडी़,खैराडी़,गोडवाडी़, अर देवडा़वाडी़
2-उगमती राजस्थानी=अहीरवाटी अर मेवाती
3-मध्यपूर्वी राजस्थानी=ढूंढाडी़,तोरावाटी,जयपुरी,कठेडी़,राजावाटी,अजमेरी, किशनगढी, शाहपुरी, अर हाडो़ती
4-दिखणाद-अगूणीं राजस्थानी=मालवी, रांगडी़ अर सोड्वाडी़
5-दिखणादी राजस्थानी=निमाडी़
6- भीली,पहाडी़ अर खानाबदोसी

राजस्थानी भाषा रो छेतर
=============

आज रो समूळो राजस्थान अर दिखणाद में सतपुडा़ रा ढाळ अर ताप्ती नदी ताईं , आगूणीं दिस में केतकी नदी री ऊपरी धारा सूं आथूण में उमरकोट समेत सिंध नदी री आगूणीं धारा ताईं रो समूळो छेतर  राजस्थानी री बोल्यां बोलण आळां रो छेतर हो ! --

 [] ओम पुरोहित 'कागद'
    24 -दुर्गा कोलोनी
   हनुमानगढ़ संगम - 335512 [ राजस्थान ]
  खूंजे रो खुणखुणियों - 09414380571

2 टिप्‍पणियां:

  1. *सीनली गाँव रै साथ में,जनम मरण रो सीर । बिन सरपंचा रै भायला,कुत्तिया खावै खीर *
    निज गाँव नै छोड कर,पर गाँव अपणाय । ऐडै पूतां नै देख , सीनली गाँव लजाय ॥

    उत्तर देंहटाएं